top of page

संघर्ष से सफलता की ओर: एक युवक की उत्कृष्टता की कहानी


वाराणसी शहर में, एक युवा लड़का अर्जुन नामक रहता था। वह एक मामूली परिवार से थे, उनके माता-पिता दिन-रात मेहनत करके गुजारा कर रहे थे। जीवन ने जैसे चुनौतियों का सामना किया, वैसे ही अर्जुन के सपने भी उसी तेजी से जल रहे थे। वह तय किया था कि वह भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी बनेंगे और अपने समुदाय में सकारात्मक परिवर्तन लाएंगे।

अर्जुन की यात्रा आसान नहीं थी। उन्होंने एक सरकारी स्कूल में अध्ययन किया जहां संसाधन सीमित थे, लेकिन उनकी ज्ञान की प्यास अनखेरी थी। वह स्थानीय पुस्तकालय से किताबें उधार लेते थे और पेट्रोलियम लैम्प की मध्यम बत्ती के नीचे पढ़ने की आंधी रोशनी में रात बिताते थे। उनकी समर्पण भरी मेहनत को उनके शिक्षकों ने नोटिस किया। उनके शिक्षक, उनकी अटल समर्पणता से प्रभावित होकर, अक्सर मार्गदर्शन और समर्थन प्रदान करने के लिए अपनी राह में आ जाते थे।

सालों के साथ, अर्जुन की मेहनत आगे बढ़ती गई। उन्होंने अपनी परीक्षाओं में उत्त्कृष्टता प्राप्त की, लगातार अपनी क्लास में टॉप करते रहे। हालांकि, उन्हें ज्यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीएससी) की परीक्षा को क्रैक करने के लिए केवल शैक्षिक उत्कृष्टता से ज्यादा आवश्यकता थी। उन्हें एक व्यापक दृष्टिकोण की आवश्यकता थी, वर्तमान मामलों की समझ, और जटिल मुद्दों का तर्कात्मक विश्लेषण करने की क्षमता की।

अपने सपनों को पूरा करने के लिए निर्धारित, अर्जुन ने अलग-अलग कामों का संघटन किया ताकि उन्हें बेहतर अध्ययन सामग्री और कोचिंग क्लास की सुविधा हो सके। वह सवेरे से पहले जागते थे ताकि पढ़ाई कर सकें, उसके बाद स्कूल जाते थे और फिर अपने पार्ट-टाइम नौकरी में जाते थे। उनका दिन यहाँ खत्म नहीं होता—थकान से भरपूर होने के बावजूद, वे देर रात तक पढ़ते रहते थे, सबकुछ कुछ न कुछ करते हुए, जैसे कि वह अपने राष्ट्र की सेवा का सपना साकार करने के लिए तैयार थे।


अर्जुन की अदम्य स्वभाव ने महानता का परिचय दिलाया। उनके पिता माता, शिक्षकों और गुप्ता जी जैसे मार्गदर्शकों का समर्थन और उनके पोटेंशियल में अविचल विश्वास ने फल दिया।

अर्जुन की सफलता की ख़बर आईएएस की परीक्षा के परिणाम आने पर। अर्जुन ने परीक्षा हॉल में पैर रखकर अपने दिल की धड़कन को काबू में करने की कोशिश की। उन्होंने तो नहीं सिर्फ परीक्षा को पास किया बल्कि टॉप 50 में अल्ल इंडिया रैंक प्राप्त की। उनके परिवार, शिक्षक और गुप्ता जी खुशी में झूम उठे। उनका अटल विश्वास अर्जुन की सफलता की कोई सीमा नहीं रखा था।

अर्जुन की कहानी पूरी समुदाय के लिए प्रेरणा स्रोत बनी। उनकी यात्रा उन्हें सिखाती है कि स्थितियों के आधार पर सपने नहीं बाँटते। अटल संकल्प और सही समर्थन के साथ, कोई भी चुनौतियों को पार कर सकता है और महानता प्राप्त कर सकता है।

 

AUTHOR: S K CHOUDHARY

 

COURSES BY S K CHOUDHARY:




24 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


  • call
  • gmail-02
  • Blogger
  • SUNRISE CLASSES TELEGRAM LINK
  • Whatsapp
  • LinkedIn
  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube
  • Pinterest
  • Instagram
bottom of page