top of page

मनोबल का प्रभाव: परिवर्तन की कहानी


एक छोटे से गाँव में, जो की भारत की पहाड़ियों की चारों ओर बसा हुआ था, दो किसान रहते थे - रवि और अर्जुन। दोनों ही किसान अपनी खेती कौशल में उत्कृष्ट थे और अपनी फसलों की देखभाल करने में माहिर थे। उन्हें उनकी खेती की कमानी में समान योग्यता थी, लेकिन उनकी किस्मतें बिल्कुल भिन्न थीं।

रवि की खेतें साल भर में प्रचुर मिश्री से भरी रहती थीं। उनकी फसलें पूरे गाँव के लिए एक इरादे का प्रतीक बन गई थीं, जबकि अर्जुन को रवि की पैदावार का कितनी ही भाग मिलता था। उनकी खेतें सिर्फ छोटे पौधों से भरी थीं और उन्हें आवश्यकता की चिंता सताती थी।

गाँव में बज रहे शोर में से जानकर, लोग रवि की सफलता के पीछे का राज जानने में उत्सुक थे। यह रवि की फसलों के पीछे कोई जादुई औषधि या अद्भुत जादू नहीं था, बल्कि यह उनकी दृढ़ संकल्पा थी।

रवि का मन सकारात्मकता और संकल्प से भरपूर था। वह अपने काम को निरंतरता से देखते थे, हर दिन को एक अवसर के रूप में देखकर धरती को प्राकृतिक संपदा बनाने का प्रयास करते थे। उनकी दृष्टिकोण विश्वास के साथ थी, और वे प्रत्येक पल को विश्वास और समृद्धि के वचनों से पूर्ण करते थे।

विपरीत रूप से, अर्जुन के मन में संदेह और चिंताएँ बसी रहती थीं। उनकी नकारात्मक दृष्टिकोण ने उनकी कठिनाइयों की छाया डाल दी, जिससे उन्हें अपनी सर्वोत्तम प्रयासों का प्रदान नहीं कर पाते थे। उन्होंने अक्सर बारिश की कमी का शिकार करते हुए या मिट्टी को अपने दुर्भावनाओं का कारण बनाया। उनकी दृष्टिकोण, सूरज को छिपा देने वाले बादल की तरह, उनकी खेतों की संभावनाओं को रोकती थी।

एक दिन, जब गाँव में एक महत्वपूर्ण त्योहार मनाया जा रहा था, वहाँ आये एक ज्ञानी संत ने दोनों किसानों को बुलाया। उन्होंने रवि और अर्जुन को गाँव के मैदान में बुलाया और कहा, "मैं देखता हूँ कि आप दोनों में अद्वितीय कौशल हो, लेकिन आपकी दृष्टिकोण की आपके खेतों की भाग्य निर्धारण कर रही है। रवि, आपका सकारात्मक दृष्टिकोण ही आपकी सफलता की जड़ है। अर्जुन, अब अपनी संकल्पा को उजागर करने का समय आ गया है। आप दोनों के लिए मैं एक कार्य देता हूँ।"


संत ने प्रत्येक किसान को एक छोटे से बीज दिया। उन्होंने उन्हें यह निर्देश दिया कि उन्हें अपने बीजों को धैर्य से बोना है, उनकी देखभाल करनी है और उन्हें प्यार से बढ़ावा देना है।

महीने बितने थे, और बीजों से पौधे उगने लगे। रवि के बीज से एक शानदार कमल का फूल निकला, जो अपनी पत्तियों को सुंदरता से खोल रहा था। अर्जुन के बीज से भी एक कमल निकला, यहाँ तक कि वह रवि के फूल की तुलना में थोड़े छोटे दिख रहे थे।

संत ने गाँववालों को बुलाया और कहा, "दृष्टिकोण की शक्ति को देखो! रवि के सकारात्मक दृष्टिकोण ने उनकी फसलों की तरक्की की साक्षात्कार की है। अर्जुन के सोच की बदलती दृष्टिकोण ने उनकी संभावनाओं की प्रतिष्ठा की है जो हम सभी में होती है। जैसे की कमल दलदल से ऊपर उठकर सूरज की किरनों का स्वागत करता है, हमारी दृष्टिकोण भी हमें चुनौतियों से ऊपर उठाने और सफलता की ओर प्रेरित कर सकती है।"

उस दिन के बाद, रवि और अर्जुन गाँव में सकारात्मक दृष्टिकोण के प्रशंसक बन गए। अर्जुन की खेतों में भी वृद्धि हुई, उनके कमल के बदलने की तरह, और वह अपनी प्राप्त ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करते गए। दो कमलों की कहानी दूर-दूर तक फैल गई, और यह एक सबकी यादगार चेतावनी बन गई कि दृष्टिकोण का किसी भी जीवन पर कितना गहरा प्रभाव हो सकता है।

इसलिए, जैसे आप अपने सपनों के सफर का अनुभव कर रहे हैं, रवि और अर्जुन की कहानी को याद रखें। अपने हृदय में सकारात्मकता का कमल उगाएं, और देखें कैसे यह एक दिव्य प्रकार में खिलता है, आपको सफलता, सहनशीलता और जीवन को सकारात्मकता के उज्ज्वल रंगों से भर देता है। जैसे कि कमल, आप भी चुनौतियों से ऊपर उठने और अपनी संभावनाओं की किरनों में शान्ति पाने के लिए अपनी सकारात्मकता को विकसित कर सकते हैं।

 

Author: S K Choudhary

 

Check the course below:





26 views0 comments

Recent Posts

See All

The pros and cons of simultaneous elections | Explained

What are the various benefits of holding Lok Sabha and State elections at the same time? How would simultaneous elections go against the federal character of the Constitution? What are international p

Comentários


  • call
  • gmail-02
  • Blogger
  • SUNRISE CLASSES TELEGRAM LINK
  • Whatsapp
  • LinkedIn
  • Facebook
  • Twitter
  • YouTube
  • Pinterest
  • Instagram
bottom of page